You are here
Home > Article

भाई..लाइन में रहो..

“ए भाई लाइन में आओ , हम भी यहाँ कितने देर से खड़े है,line में लगने का शौक हमे भी नही हैं,”
“””हाँ हेल्लो..जी साहब हाँ आपका चेक पहुँच गया है..जी जी आपके रूम पे पहुँच जायेगा चिंता मत कीजिये””” क्लर्क साहब धीमी फोन पर आवाज में फुसफुसाए
” @#%$ये बैंक वाले चापलूसी का कोई मौका नही छोड़ते , उसका कोई रिश्तेदार ,जानने वाले ने एक फ़ोन क्या किया हमारे पाओ दर्द को मूव का रिलीफ समझ के भूल गया, 

…..भैया कितना भी नोटेबन्दी करवा लो इस देश स करप्शन कभी दूर नही होने वाला”
नंबर आने पर…

“जी आपका चेक गलत मैं इसे approve नही कर पाऊँगा, सही करके लाए,”

“अरे सर कर दीजिएना बहुत देर स लाइन में लगा हूँ”

“ठीक है ..ठीक है लेकिन सिर्फ 4 हज़ार ही जो पायेगा…बोलिये कर दू”

“जी बिलकुल जो मिले वो ..कर दीजिए”
Cash से ऐश करने जब दोस्तों के पास पंहुचा,..

“चलो पैसे तो निकल गए आज लेकिन @$%बस 4 दिया वो भी इतनी भीड़ में लगने के बाद”

“अबे यार..तू भी मुझे बताया होता मेरा दोस्त ही बैंक मैनेजर  है वहाँ.. तू बस चेक दे देता ”

“अच्छा..अरे यार तो मेरा अब भी निकलवा दे..ज़रूरत हाउ यार पैसो की”

“ठीक है चेक दे यहाँ.. और चल जो निकाला है उससे चाय पिला”

“ले..चल”
बैंक में..

“हाँ सर..आपका चेक पहुँच गया है…”
“ये बैंक वाले..भारत में करप्शन कभी बंद नही होगा”
“ये भाई..लाइन में रहो”

-प्रभु प्रभात

The following two tabs change content below.

Latest posts by Prabhu Pandey (see all)

Leave a Reply

Top