You are here

==कोई और ढूंढ़ लो==


इस दिल को

      ख्वाईश नही अब जुड़ने की,

         तुम अपनी ऐसे वफाओं का,

               कोई और टिकाना ढूंढ़ लो,
  हाँ बहुत मिल जायेंगे तुम्हें

              तुम्हारे चाहने वाले,

                 मगर अगर ढून्ढ सको तो,

                   मुझ जैसा कोई सहारा ढून्ढ लो,
एक दो सावन की बातों से तो,

        बहला लोगी तुम दिल अपना,

       मगर पतझड़ में जो दिल को सींचे,

                  ऎसे माली तुम दुबारा ढून्ढ लो,
रात की जिर्क होगी अगर,

           तो चाँद बन जायोगी तुम,

अमावस की रात में जिसे फ़िक्र ही चाँद की,

                          ऐसा कोई सितारा ढून्ढ लो,
कोई अरमान नही रहे 

                 इस दिल में अब,

अब जिसको फिर से अरमान हो तुम्हारा,

            ऐसा अगला पागल दीवाना ढून्ढ लो,
इन आँखों को सपने,

      देखने का शौक नही अब,

           तुम अपने सपनो के लिए,

             किसी और की पलके ढून्ढ लो,
मुसाफ़िर जैसा था मैं,

      मुसाफ़िर ही रहूँगा मैं,

         तुम अपने सफर के लिए,

      किसी और की मंजिल ढून्ढ लो
                                   –प्रभु प्रभात

                                             19Nov

                                    #RozEkKavita

The following two tabs change content below.

Latest posts by Prabhu Pandey (see all)

Leave a Reply

Top